हेल्लो फ्रेंड्स धिस इज राज, (नोट रियल नाम) फ्रॉम डेल्ही. ये मेरी लाइफ की सच्ची स्टोरी हे. इस स्टोरी को में आपके साथ शेर कर रहा हूँ. अगर आपको पसंद आए . प्लीज् मुझे रिप्लाई जरूर करना. अब में आपका ज्यादा वक्त ना लेते हुए सीधा स्टोरी पर आता हूँ. में मेरठ से हु और डेल्ही में रेंट पे रहता हूँ. में जिस मकान में रहता हूँ वहां एक भैय्या और भाभी उन्का ८ साल क लड़का और उनकी सास और ससुर रहते हे. मेरा रूम उपर हे और भैय्या और भाभी  निचे रहते हे.

ये स्टोरी ३ महिने पहले की हे आरती भाभी मुझे बहोत ही सेक्सी लगती हे देख के किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा. उनकी आदत बहोत ही अच्छी हे में कभी कभी उनके लड़के के साथ लिया करता था. एक दिन भैय्या और उनकी मोम एंड डेड किसी शादी के लिए गए साथ में उस छोटे बच्चे को ले गए अब घर पर में और भाभी ही थे आरती भाभी ने मुझे बोला की राज आज खाना यही खा लेना. मेने कहा ठीक हे उस टाइम भाभी के लिए मेरे दिमाग में कुछ नहीं था.

जब डिनर का टाइम हुआ आरती भाभी ने मुझे आवाज़ लगाई, की  राज खाना खा लो मेने कहा भाभी आता हूँ. में जब निचे गया तो भाभी ने खाना लगा दिया था.खाना खाते टाइम भाभी बोली की की राज रात में मुझे डर लगता हे. आज मेरे साथ ही सो जाओ प्लीज्, मेने बोला ठीक हे भाभी.

में डिनर करने के बाद कपडे चेंज करने के लिए अपने रूम में चला गया.और जब आया तो देखा की भाभी आँखों में एक अजीब सी चमक थी भाभी भी कपडे चेंज कर चुकी थी. वो व्हाइट कलर की नाईटी पहने रही थी. अब हम उनके रूम में चले गए. वो बोलने लगी की मेरे बेड पर ही लेट जाओ. शर्दी का मौसम हे .

मेने कहा ठीक हे मुझे लगा की आज भाभी का इरादा कुछ सही नहीं लग रहा हे.उसके बाद हम मूवी देखने लगे. जी टीवी पर गंगा जमुना सरस्वती चल रही थी. और उसमे एक सिन आता हे जो वो बर्फ में डूब जाता हे और लड़की उसके साथ सेक्स करती हे तब भाभी बोली के एसा होता हे मेने कहा हाँ.

फिर हम टीवी बंद करके सो गए. और रात में बहोत तेज बारिस होने लगी. मुझे सर्दी लगने लगी में सिर्फ एक ब्लैंकेट में था. और भाभी दूसरा ब्लेंकेट ले रही थी. अब भाभी बोली की राज दोनों ब्लेंकेट एक साथ जोड़ लेते हे. फिर दोनों को शर्दी कम लगेगी. मेने कहा ठीक अब मौसम एसा हो गया था, में भी सोंच रहा था केसे भाभी से चिपकू. अब हमने ब्लेंकेट जोड़ लिया. और एक दुसरे से बिलकुल मिल कर सो गए. मेने भाभी की तरफ को मुह गुमाया अब मुझे नींद नहीं आ रही थी. में बस अब किसी भी तरह भाभी को चोदना चाहता था. मेने आँखे बंद करके सोने का नाटक करने लगा. और अपना हाथ भाभी के बूब्स पर रख दिया. भाभी ने मेरा हाथ हटा दिया.

मेने थोड़ी देर बड फिर हाथ रख दिया अब की बार वो कुछ नहीं बोली मेने धीरे से अपने हाथो से उसके बूब्स को दबाया वो कुछ नहीं बोली फिर मेरी कुछ हिम्मत बढ़ी. फिर धीरे से दबाया. फिर वो कुछ नहीं बोली और में दबाता गया. ५ मिनट बाद में भाभी के मुह से आवाज़ आई सीईईए राआआअजज्ज्जज्ज्ज क्या कर रहे हो में कुछ नहीं बोला.और दबाता ही गया. अब भाभी मुझे किस करने लगी. और भूकी लोमड़ी की तरह मेरे शारीर में बाईट करने लगी.मेने भाभी आराम से बोली आज बहोत दिन बाद सेक्स कर रही हूँ.

राज प्लीज् मुझे रोकना मत मेने बोला भैय्या क्या करते हे बोली की वो जब तक में गरम होती हु तब तक झड कर सो जाते हे.अब उन्होंने मेरी काप्री उतार्दी मेरी टीशर्ट भी उतर दी. और बोली मेरे राजा अब मेरे कपडे उतारो. मेने उनके कपडे उतारे वो सिर्फ नाइटी पहने हुई थी. उन्होंने मेरा लंड देखा ८’ वो देखती ही रही कुछ देर तक और फिर उसको साथ में लेकर सहलाती रही. फिर एक दम से मुह में ले लिया और मुझे बोला की तुम मेरी चूत चाटो ना प्लीज्

राज अब हम ६९ पोजीसन में थे जब मेने हलके से जिब उनकी चूत में डाली त उनके मुह से आवाज़ निकली र्रर्ररआआआआज्ज्ज्जज्ज्ज्जज्ज्ज और लंड मेने उनके मुह में डाल दिया अब में उनकी चूत को चाट रहा था और वो मेरा लंड चुस्ती रही.१५ मिनट  के बाद दोनों झड गए.

अब में उनके ऊपर सीधा लेट कर उनकी चूची दबाता रहा. वो फिर से गरम हो गयी और अब मेने उनकी चूत में केसा ही अपना लंड गया वो बोली की पूरा अन्दर डाल दो. राज मेरे राजा आज पहली बार इतना लम्बा देखा हे. में उनकी चूत को दबाता गया.और एक आह्ह्ह्ह से उनके चूचो को दबाता गया अब वो सिस्कारिया ले रही थी. ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआअ ह्ह्हह्ह्ह्ह अह अह अह हहह्ह्ह्हह्ह्ह्ह चोदते रहो राज चोदते रहो अआज्ज्ज्ज मुझे चोदते रहो मुझे पूरी रात चोदोप्लीज् आआआअ ह्ह्ह्हह्ह आआआह ह्ह्ह्हह ऊऊऊऊऊ ऊऊऊउफ़्फ़्फ़्फ़आआअ आआअ ईईईए ऊऊऊऊ म्मम्मम्म म्म्मम्म्म्ररररआआआआ ज्ज्ज्ज आआआआ २५ मिनट बाद में जड़ गया. और वो भी फिर हम पूरी रात सेक्स किया उस दिन मेने अपनी लाइफ में पहलीबार ५ बार सेक्स किया और अब हम जब भैय्या ऑफिस चले जाते हे तब वो मेरे रूम में ही आ जाती हे और हम डेली सेक्स करते हे. अगर कोई लेडी मेरे साथ करना चाहे तो मुझे मेल कर शक्ति हे.