हेलो! मैं आशीष कानपूर यूपी से आप सभी लोगो का स्वागत करता हूँ और आज मैं अपनी पहली सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ जो एक लेडी कंप्यूटर टीचर जिसका नाम निशा है और अब मैं स्टोरी पर आता हूँ. बात आज से दो महीने पहले जुलाई की है.

जब मैं कंप्यूटर कोर्स के लिए नॉएडा आया था और एक सेण्टर में एडमिशन ले लिया और जब मैं पहले दिन क्लास के लिए गया तो मैंने एक खुबसूरत आंटी को देखा जिसकी उम्र 30-32 होगी लेकिन देखने में वो 20-25 की ही लग रही थी और मुझे लगा ये भी हमारे साथ क्लास करेगी.

लेकिन कुछ देर बाद उन्होंने बताया की वो हमारी कंप्यूटर टीचर है और उन्होंने अपना नाम निशा बताया और मैं तो उन्हें ही देखे जा रहा था और निशा मेम ने ब्लैक-वाइट सलवार सूट पहना था जिसमे वो बहुत सुन्दर और सेक्सी लग रही थी.

मैं तो उनको और उनके बूब्स को देख रहा था और थोड़ी देर में निशा ने क्लास शुरू कर दी और वो सभी के पास जा जा कर कंप्यूटर पर वर्क करना समझा रही थी और मैं ही देख कर खुश हो रहा था और जब वो मेरे पास आई.

तो मैंने उनके बूब्स के बीच की लाइन और थोडा सा बूब्स देखे और फिर कुछ देर बाद क्लास ख़त्म हो गयी और मैं घर आ कर निशा मेम को सोच कर मुठ मार लिया और धीरे धीरे हमारी क्लास में थोड़ी बात होने लगी और मैं एक दिन उनके बूब्स देख रहा था और मेरा लंड खड़ा हो गया था और निशा मेम ने ये देख लिया था.

तभी वो मेरे पास आई और हसकर बोली एनी प्रॉब्लम और क्या देख रहे हो मैं तो डर गया लेकिन हिम्मत करके नहीं बोल दिया और थोड़ी देर बाद क्लास ख़त्म करके घर आ गया.

फिर अगले दिन से निशा मेम मेरे और करीब आ कर खड़ी होकर कंप्यूटर बताती और अपने बूब्स टच करती और मौका देख कर मेरे लंड पर अपना हाथ रख देती और मैं भी टाइम देख कर बूब्स और गांड टच कर लेता फिर 3-4 दिन ऐसे ही चलता रहा.

फिर एक दिन रात को 10 बजे मोबाइल में मेसेज आया व्हाट्सअप पर बात करो.. मैंने नंबर सेव किया और मैंने पूछा कौन तो उन्होंने बताया निशा मेम! तो मुझे विश्वास नहीं हुआ तो मैंने कहा सच तो निशा मेम ने मेसेज किया की यकीं नहीं तो कॉल करलो..

तो मैंने निशा से कुछ देर कॉल पर बात की और फिर व्हाट्स अप पर और उन्होंने अगले दिन मुझे रात के खाने के लिए घर बुलाया और मैं अगले दिन सेण्टर भी नहीं गया और रात का वेट करने लगा.

फिर मैं 7 बजे निशा मेम के घर पहुंचा और डोर नॉक किया तो वो बाहर आई और वो बहुत सेक्सी लग रही थी और उनके बूब्स साफ़ दिखाई दे रहे थे और मैं अन्दर गया और बैठ गया वो किचन में कॉफ़ी बनाने गयी.

मैं निशा मेम के आने का वेट करने लगा और फिर वो जब कॉफ़ी लेकर आई तो मैं उनके बूब्स और उनकी गोल गांड देख कर खुश हो रहा था और मेरा लंड बिलकुल खड़ा था और वो भी ये देख रही थी और फिर वो मेरे पास आ कर बैठ गयी और हमने कॉफ़ी ख़त्म की और वो मेरे और करीब आ कर बैठ गयी.

अब मुझसे भी नहीं रहा जा रहा था और मैंने उनके बूब्स को दबा दिया तो उन्होंने कहा रुको अभी तो रात पूरी बाकी है पहले डिनर तो कर ले और फिर तो आह मैं तुम्हारे लंड से पूरी रात खेलूंगी और फिर वो डिनर बनाने चली गयी और मैं भी वही किचन में जाकर खड़ा हो गया.

मैंने निशा मेम से शादी के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया की उनके पति बिज़नसमेन है और उन्हें टाइम नहीं रहता तो मैंने कहा कोई बात नहीं मैं तो हूँ और मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और फिर बूब्स दबाने लगा किस करने लगा तो निशा ने कहा इंतज़ार करो..

तो मैंने कहा अब इंतज़ार नहीं हो रहा फिर अपना लंड उनकी गांड में टच कर रहा था तो कभी उनकी गांड में हाथ कभी कुछ कभी कुछ.. फिर डिनर रेडी हो गया और हम डिनर के लिए टेबल पर आ गए और डिनर करने लगे लेकिन मेरा मन नहीं लग रहा था डिनर करने में.

फिर निशा मेम ने कहा चलो अच्छा रूम में चलते है और वो रूम में ले गयी और फिर उन्हें पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया और वो मेरे पेंट के ऊपर से लंड सहला रही थी, फिर मैंने उनकी नाईटी ब्रा और पेंटी उतार दी और उनके बूब्स चूस रहा था.

निशा मेम ने मेरे भी पुरे कपडे उतार दिए और अब हम दोनों बिलकुल नंगे थे और मैं बूब्स के नीचे आया और चूत चाटने लगा और वो भी पुरे जोश में आ गयी थी और वो मेरे मुह में ही झड गयी और फिर मैंने उसका सारा पानी पी लिया और उसकी चूत एक दम क्लीन थी.

फिर उसने मेरा लंड मुह पे लिया और चूसने लगी और मैं उसके बूब्स चूस रहा था और मैं भी मुह में ही झड गया और फिर थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर खड़ा हुआ और अब मैं उसे चोदने के लिए तैयार था और मैंने अपना लंड उसकी चूत के आगे रखा और धक्का देने लगा लेकिन शायद उसने काफी दिनों से सेक्स नहीं किया था.

तो काफी टाइट थी लेकिन फिर मैंने थोड़ी ताकत से धक्का दिया तो मेरा पूरा लंड अन्दर चलता गया और वो चिल्लाती रही थी.

रुको रुको फिर मैं थोडा रुका और फिर मैं उसे चोदने लगा और वो भी आगे पीछे होकर मेरा साथ दे रही थी और आवाज निकल रही थी ओह्ह अहह अहह ओह्ह चोद और चोद अहह अहह ओह्ह और मैं तो उसके बूब्स और उसे चोदने में ही मस्त था और फिर वो झड गयी लेकिन मैं अभी नहीं.

फिर थोड़ी देर रुका और फिर चोदने लगा फिर मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने पूछा कहा निकालू तो निशा मेम ने कहा अन्दर ही डाल दे और मैं अन्दर ही झड गया.

फिर हम कुछ देर उसी तरह लेते रहे और फिर कुछ देर आराम करने के बाद निशा मेम मेरे लंड से फिर खेलने लगी और मेरा लंड फिर खड़ा हो गया और मैं फिर से उसे चोदने लगा और वो भी अपनी गांड हिला हिला कर मजे ले रही थी और चिल्ला रही थी.

फ़क मी फ़क मी चोद और चोदो आज मेरी प्यास बुझा डे फाद डे मेरी चूत और यह सुन कर मुझे और जोश आ रहा था और मैं और जल्दी जल्दी चोदने लगा और फिर हम दोनों एक बार फिर झड गए और मैंने रात भर में 5 बार निशा मेम की चुदाई की और सुबह जब में उठा.

तो हम दोनों साथ में नहाने गए और बाथरूम में मेरा निशा की गांड मारने का मन करने लगा.

तो मैंने अपना लंड उसकी गांड पे टच किया तो उसने पूछा ये क्या कर रहे हो शायद उसने कभी गांड नहीं मरवाई थी तो मैंने कहा कल से ज्यादा मजा आएगा तो वो तैयार हो गयी और मेरा लंड बिलकुल खड़ा था तो मैंने जोर से धक्का दिया.

तो मेरा आधा ही लंड अन्दर गया और वो दर्द की वजह से रोने लगी और तभी मैंने और एक बार धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी गांड पे चला गया और वो चिल्ला रही थी रुको रुको लेकिन मैं नहीं रुका और मैं उसकी गांड मारने जा रहा था.

और कुछ देर बाद वो भी साथ देने लगी और बोल रही थी और करो जल्दी करो बहुत मजा आ रहा है और मेरी स्पीड भी बढती जा रही थी.

फिर 10 मिनट बाद में झड गया फिर हम नहा कर बाहर आये और एक दुसरे को किस किया और मैं वापस अपने रूम आ गया और अब हमारा जब भी मन करता है तो हम चुदाई में मजे लेते है.