मैं अपने घर में अमूमन हर चीज़ के लिए प्रॉब्लम सोल्वर माना जाता रहा हूँ, कारण की जब जब भी परिवार में किसी को भी कोई भी प्रॉब्लम हो मैं उसे ध्यान से सुनता हूँ और कोशिश करता हूँ की उस व्यक्ति विशेष को उस प्रॉब्लम का सलूशन मिल जाए. ये आदत मुझ में मेरे दादा जी से आई है जिनके साथ रह कर मैंने सब मुश्किलों को एक चैलेंज की तरह लेना सीखा है और उन्हें सोल्व करने के लिए तरीके निकलने भी सीखे. लेकिन जो मेरे दादा जी ने मुझे नहीं सिखाया वो मैंने अपनी कॉसिंग निक्की को सिखा दिया और उसे ये सब सिखाना मुझे इसलिए ज़रूरी लगा की कहीं वो अपने बॉय फ्रेंड की चुदाई की गुलाम न बन जाए.

हुआ यूँ की मैं अपने नार्मल रूटीन से फ्री हो कर ऑफिस के लिए निकल ही रहा था कि मुझे निक्की के कमरे से सुबकने की आवाज़ आने लगी, मैंने बिना कुछ सोचे उसके कमरे को नॉक किया और अन्दर घुसा तो देखा की निक्की का रो रो के बुरा हाल है. मैंने उसे हग किया उसके सर पर हाथ फेर कर उसे नार्मल किया और जब उस से पूछा तो उसने शर्माते हुए मुझे बताया कि उसका बॉय फ्रेंड उसे डंप कर रहा है क्यूंकि वो उसके साथ सेक्स करना चाहता है और वो खुद इसके लिए अभी तैयार नहीं है.

मैंने उसे समझाया की सेक्स कोई ऐसी चीज़ नहीं है जिसके आधार पर रिलेशनशिप की बुनियाद रखी जाए और अगर बॉय फ्रेंड ऐसा चाहता है तो उस व्यक्ति को सिर्फ सेक्स से मतलब है रिलेशनशिप से नहीं, ये सुन कर वो थोड़ी खामोश हुई लेकिन उसे अभी भी लग रहा था की उसका बॉय फ्रेंड उसे डंप ना करे सिर्फ सेक्स के लिए. मैंने कहा “देख तू कहे तो मैं तेरे बॉय फ्रेंड से बात करूँ” तो बोली “नहीं नहीं आप मत करो आप मुझे बस थोडा बहुत समझा दो ताकि मैं खुद इस मुद्दे को डील करूँ, आखिर मैं भी आपकी तरह ही अपनी प्रोब्लेम्स से खुद लड़ कर आप ही की तरह बनना चाहती हूँ”.

मैंने ख़ुशी ख़ुशी उसकी बात को सुना और समझाया “सेक्स ज़रूरी तो है लेकिन इतना भी नहीं की उसके बिना जिया ही ना जाए”, निक्की मेरी बात को बड़े ही ध्यान से सुन रही थी और सुनते सुनते उसके चेहरे के भाव बदल रहे थे जिसे मैंने नोटिस कर लिया था. मैंने निक्की से पूछा “क्या सोच रही है बेटा” तो वो बोली “आप नाराज़ तो नहीं हो जोगी न” मैंने कहा “नहीं मेरी बन्नो तेरे जैसे प्यारी सी गुडिया से क्यूँ नाराज़ होऊंगा” तो उसने कहा “मैं चाहती हूँ की मेरे बॉय फ्रेंड से पहले आप मेरे साथ सेक्स करो ताकि मुझे डर ना लगे”. मैं उसकी बात सुन कर अवाक् रह गया क्यूंकि ये मेरी अपनी कजिन निक्की थी जिसे बचपन में मैं गोदी लिए लिए घूमता था और आज वो ऐसी बात मुझसे कर रही थी.

मैंने प्यार से उसके सर पर हाथ फेरा और कहा “हम शाम को बात करते हैं, अभी कॉलेज जा और थोड़ा सोच की तूने क्या कहा अभी”. ये कहकर मैं वहां से निकल लिया और जब ऑफिस पहुँचा तो वहां भी मेरा काम में मन नहीं लग रहा था क्यूंकि एक तरफ निक्की मेरी कजिन थी और दूसरी तरफ एक उभरती हुई सुन्दर कली  जिसे कोई बाहरवाला रौंद देगा अपने स्वार्थ के खातिर. मैं यहाँ उहापोह की स्थिति में था और निक्की तथा उसकी प्रॉब्लम के बारे में सोच रहा था की निक्की का मेसेज आया “आप नाराज़ तो नहीं हो ना, मैंने तो बस इसलिए कहा क्यूंकि मैं आपके साथ कम्फ़र्टेबल रहूँगी और मुझे यकीन है की मैं कुछ अच्छा ही सीखूंगी”.

मैंने उस मेसेज का कोई रिप्लाई नहीं दिया तो उसके दो तीन इमोटिकॉन वाले मेसेजेस आए जिन्हें भी मैं इग्नोर करता रहा, एक तरफ मैं सोच रहा था की इसके बारे में निक्की के पापा को बताऊँ और दूसरी तरफ उसकी मासूम मुस्कान उसका टाइट बदन और उभरती हुई जवानी मुझे इनविटेशन दे रही थी. मैं हाफ डे ले कर घर पहुँच गया और अकेले में बैठ आकर अनुलोम विलोम करने लगा जिस से मेरा ध्यान सेक्स से हटकर दूसरी जगह फोकस हो लेकिन निक्की है ही इतनी सुंदर की मेरा ध्यान बार बार निक्की की बात पर जा रहा था. मैंने पोर्न देख कर मास्टरबेट भी किया पर निक्की से मेरा ध्यान हट ही नहीं रहा था.

थोड़ी देर बाद मुझे निक्की की आवाज़ सुनाई दी वो अभी अभी कॉलेज से आई थी, मैंने उसे अपने कमरे में बुलवाया और उसके बॉय फ्रेंड के बारे में पूछा तो उसने सब बता दिया की वो लोग छः महीने से डेट कर रहे हैं और अब जा कर उसे बॉय फ्रेंड ने सेक्स के लिए पूछा पर वो उसके साथ सेक्स करने में कम्फ़र्टेबल नहीं है. मैंने कहा “ठीक है मैं तेरे साथ सेक्स करूँगा लेकिन ये सब सिर्फ एक ही बार होगा” ये सुनकर निक्की खुश हो गई और बोली “थैंक्स मैं जानती थी की आप मेरे दुःख को समझोगे और मुझे उसका सलूशन ज़रूर दोगे”. मैंने उसे कहा “पर हम यहाँ घर में नहीं कर सकते इसलिए मैं ऑफिस से बंक मरूँगा और वो कॉलेज से और हम दोनों मेरे फ्रेंड के फ्लैट पर जा कर सेक्स करेंगे”.

अगले दिन प्लान के मुताबिक मैं और निक्की अपने अपने टाइम पर घर से निकले और एक निश्चित जगह मिले, निक्की आम दिनों से ज्यादा खूबसूरत लग रही थी और बड़ी एक्साइटेड भी थी.मैंने भी उसे देख कर खुश था की कहाँ तो कल ये लड़की रो रही थी और कहाँ आज चहक रही है, पर मेरे मन में अब भी असमंजस था की कैसे शुरुआत करूँगा और क्या क्या तरी करूँगा क्यूंकि मैंने सेक्स तो कई बार किया था लेकिन कजिन के साथ करना थोडा अजीब था. हम दोनों मेरे दोस्त के फ्लैट में गए और वहां जा आकर निक्की मेरे गले में हाथ डाल कर मेरे ऊपर लटक गई, जिसे मैंने बमुश्किल छुड़ाया और समझाया “देखो सेक्स है इमोशन पर कण्ट्रोल करके एक दुसरे की बॉडी को एप्रिशिएट करना और एक दुसरे में समा जाना.

निक्की ने कहा “तो आप ही बताओ क्या करूँ” मैंने उसे अपनी तरफ हौले से खींचा उसके फॉरहेड पर एक किस किया – उसके बालों पर हाथ फेर और पहले बालों पर फिर कान और फिर गर्दन पर किस किया तो वो चिहुँक उठी. मेरी तरफ मुस्कुरा कर देखती हुई निक्की बहुत ही प्यारी लग रही थी, मैंने फिर से उसके फॉर हेड पर किस किया उसकी नाक और उसके गालों पर हलके हलके किस करते हुए उसके होठों को हौले से चूम लिया. निक्की ने मेरे ऊपर वाले होंठ और फिर नीच वाले होंठ को चूमा और मेरी तरफ देख कर मुस्कुराती हुई बोली “आप कितने प्यार से किस करते हो” तो मैंने कहा “यही प्यार तुम्हे आगे भी मिलेगा”.

अब मैंने निक्की को अपनी गोद में उठा कर बेड पर लिटाया और उसके बदन पर अपने होंठ छूआने लगा जिस से उसकी सिसकारियाँ निकल रहीं थी, उसने मेरे टी शर्ट को उतार कर मेरे चौड़े सीने पर अपनी उंगलियाँ फिराईं और मैंने उसके कपडे धीरे धीरे कर के उतार दिए. निक्की अपनी रेड ब्रा पेंटी में बाला की खुबसूरत लग रही थी. मैंने उसके बदन को जी भर के चूमा और धीरे से उसकी ब्रा पेंटी भी खोल दी, उसके नन्हे नन्हे चुचे तन कर टाइट हो चुके थे और सुन्दर सी बिना झांटों वाली चूत फूल कर बड़ी हो गई थी. मैंने निक्की के चुचों को अपनी जीभ से छेड़ना और उसकी नर्म गुलगुली चूत में ऊँगली पेलना शुरू किया जिस से उसकी सिस्कारियां तेज़ हो गईं और वो बोली “वाओ आप तो इस चीज़ के मास्टर हो” ये सुनकर मुझे ख़ुशी हुई और मैंने उसके चुचों को मुंह में ले कर उन्हें जी भर कर चूसा.

जब मैं निक्की के नए नए चुचे चूस रहा था तो वो मुझे बोली “मैं सेक्स करते समय आपको किस नाम से बुलाऊ” तो मैंने कहा ट”तुम्हारी मर्ज़ी लेकिन मैं तो तुम्हे निक्की ही कहूँगा” वो मुस्कुराई और बोली “तो ठीक है मैं आपको नोबिता बुला सकती हूँ” मैं जोर से हंसा और बोला हाँ. निक्की की चूत एक दम जवान और गुदगुदी थी जिसे मैंने ऊँगली से सहला सहला कर गीला कर दिया था, मैंने अपनी एक ऊँगली उसकी चूत में डाले डाले ही उसकी चूत को चाटना शुरू किया और उसके क्लिटोरिस को अपनी जीभ से इतना सहलाया कि उसकी चूत से पिचकारी निकल गई और वो थक कर निढाल हो गई.

मैंने कहा अभी से मत थको अभी खेल बहुत लम्बा चलेगा, मेरी आवाज़ सुनते ही निक्की उठ के बैठ गई और मुझे निहारने लगी तो मैंने अपना भरा पूरा लंड उसके हाथ में दे दिया जिसे उसने मसलना शुरू कर दिया तो मैंने कहा “इसे अभी तुम्हारे प्यार की ज़रुरत है” तो निक्की मेरे लंड को प्यार से चूमने लगी. मैंने उसे कहा “इसे लोलीपॉप की तरह चूसो” तो वो मुस्कुराई और बोली “मैंने पोर्न देखा है आप चिंता मत करो, आई विल ट्राय माय बेस्ट” और इतना कह कर उसने मेरे लंड को इस कमाल के साथ चूसा कि पोर्न स्टार्स भी शर्मा जाएँ.

मेरे लंड को चूसती मेरी कजिन किसी ट्रेंड रंडी से कम नहीं लग रही थी लेकिन मैंने उसे प्यार से चोदना चाहता था और इसीलिए उसके सर पर प्यार से हाथ फेरते हुए उसे मैंने कहा “निक्की आई लव यू” उसने भी मुस्कुरा कर कहा “आई लव यू नोबिता”. निक्की ने मेरे लंड को अपने थूक से पूरा गीला कर किया था और उसके चूसने की ट्रेनिंग तो पोर्न विडियोज की वजह से अच्छी भी हुए थी सो मैंने उसे अपना लंड चूसा कर और उसने मेरा लंड चूसकर बहुत आनंद लिया. मैं उसे प्यार से सहलाते हुए बार बार आए लव यू निक्की यू अरे थे बेस्ट सक मी माय लव बोल रहा था और वो उम्म्म ह्म्म्म उम्म्म लव यू नोबिता कह कह कर मुझे खुश कर रही थी, जैसे ही मेरा वीर्य छूटा उसने बिना किसी हील हुज्जत के सारा का सारा पीलिया और चाट चाट कर लंड को साफ भी कर दिया.

 

मैंने उस से कहा “निक्की बेटा लग तो नहीं रहा कि तुझे सेक्स से डर लगता है, तू तो एन्जॉय कर रही है” तो बोली “सच कहूँ तो आपके साथ डर नहीं लग रहा और मैंने ये ओरल करने की तकनीक सिर्फ आपको खुश करने के लिए ही सीखी है”. मैंने उसे ख़ुशी से पागलों की तरह चूमना शुरू किया और वो भी मुझे उसी पेशन के साथ चूम रही थी, उसके नन्हे चुचों को मसल कर चूस कर मुझे फिर से वही कॉलेज वाला मज़ा मिल रहा था जो मैंने रिया, परिधि और कनिका के साथ लिया था. लेकिन निक्की उन सब से कहीं आगे थी क्यूंकि निक्की में सेक्स के लिए पेशन था और सीखने की ललक भी और शायद इसी लिए मैं उसके साथ ये सब कर भी रहा था.

अब मैंने निक्की को सीधा लिटाकर कहा “देख अब मैं तेरी चूत में अपना लंड डालूँगा जो तेरी चूत के हिसाब से बड़ा है सो डरना मत” तो बोली “ठीक है नोबिता, बस आप एक दम से मत घुसना और धीरे ही करना” मैंने उसके मासूम चेहरे को सहला कर कहा “चिंता मत कर बन्नो रानी तुझे प्यार से छोड़कर तेरा डर भागना है तुझे डरना नहीं है”. निक्की ने एक बार फिर मेरे होठों को चूम लिया और मैंने उसकी कच्ची चूत पर अपना लंड टिका कर हौले हौले सरकाते हुए अपने लंड का सुपाडा उसकी चूत में घुसा दिया जिस से वो ऊओह्ह्ह्ह् कर के चिल्लाई लेकिन अगले ही पल शांत हो कर बोली “थोडा सा दर्द हुआ है पर आप डालो न प्लीज़”.

मैंने कहा “शाबास मेरी ब्रेव राजकुमारी अब मैं थोडा सा धक्का दूंगा तो संभल कर रहना” और ये कह कर मैंने हलके से धक्के के साथ अपना साधे छः इंच का लंड उसकी चूत में दे मारा और उसकी फिर एक चीख निकल गई. अब मैं पूरे ध्यान से और धीरे धीरे उसकी चूत में अपना लंड अन्दर बाहर कर रहा था जिस से उसे मज़ा आने लगा था और वो भरी हुई आवाज़ में “नोबिता ई ऍम लविंग इट, फक मी हार्डर” कहने लगी. मैंने मिशनरी पोजीशन ट्राय की थी जिस से उसे कम से कम दर्द हो लेकिन निक्की ने कहा “आप लेटो मैं आपके ऊपर आना चाहती हूँ”, मैं उसके नीचे लेटा और वो मेरे ऊपर बैठ गई और अपनी चूत में मेरे लंड को घुसा कर उठ बैठ करने लगी. पसीने में लथ पथ निक्की “ऊओह्ह्ह  नोबिता फक मी, आई ऍम योर बिच फक मी” कहती रही.

मैं बेड के किनारे पर बैठ गया और लोटस पोजीशन बना कर अपनी प्यारी कजिन निक्की को गोदी में बिठा कर चोदने लगा, निक्की को भी ऐसे चुदने में मज़ा आरहा था क्यूंकि वो सिर्फ मेरे लंड पर टिकी हुई थी और मैंने एक हाथ से उसके बाल पकड़ रखे थे और एक हाथ से उसके चुचे दबा रहा था. अब उसने कहा “नोबिता मैं ओवर होने वाली हूँ” तो मैंने कहा रुक अभी मत होना साँस ले ले” मैंने उसे अपने ऊपर से उठाया और स्टडी टेबल पर बिठा कर उसकी चूत में लंड फंसा के चोदने लगा, निक्की की आहें और तेज़ हो गई और मेरे धक्के भी अब तेज़ हो गए थे.

मैं निक्की को अब थोडा ज्यादा तेज़ी से चोदने लगा तो उसकी सील टूट गई और उसकी जांघें खून से भर गई लेकिन उसका ध्यान वहां नहीं गया और मैंने उसे और भी तेज्ज़ी से चोदने लगा. आखिरकार निक्की झड़ गई और मुझसे टाइट लिपट गई लेकिन मैं अब भी धक्के दे रहा था और निक्की मुझे अब दर्द के मारे नोचने लगी थी, मैंने अपना लंड पूरे जोर से उसकी चूत में घुसा कर धक्के और तेज़ी से लगे और “निक्की आई लव यू” कह कर सारा का सारा माल उसकी चूत में छोड़ दिया.

इसके बाद मैंने निक्की तो शाम चार बजे तक तीन चार बार अलग अलग तरीकों से चोदा और फिर उसे पास में लिटा लिया, वो मेरे सीने पर उंगलियाँ फिराते हुए बोली “आपको एक सच बताना चाहती हूँ” मैंने कहा “बोलो” तो बोली “मैं पोर्न देख देख कर अपनी चूत सहलाती थी और आपका नाम ले ले कर मास्टरबेट करती थी लेकिन चुदाई का पहला अहसास मैं आपके ही साथ चाहती थी और आज मेरा सपना सच हो गया. आपसे चुदने के लिए मैंने आपसे झूठ बोला कि मेरा बॉय फ्रेंड है और वो सेक्स की कहानी भी झूठी थी, मुझे बस आपके साथ सेक्स करना था अरु आगे मेरी लाइफ में जो भी हो. आप चाहे अब मुझसे नफरत करो और मुझे भले दुबारा मत चोदो लेकिन मैं आपसे चुद कर बहुत ही हैप्पी फील कर रही हूँ और अब मुझे किसी और लंड की ज़रुरत नहीं है”.

ये सुन कर मेरे पैरों के नीचे से ज़मीन खिसक गई लेकिन अब क्या अब तो मैं अपनी कजिन को चोद ही चुका था और सच कहूँ तो मुझे इस में इतना मज़ा आया था की मैंने उसे ज़िन्दगी भर चोदना चाहता था. और हमने किया भी यही, अभी निक्की अपनी इंजीनियरिंग ख़त्म कर के सॉफ्टवेर इंजिनियर बन गई है उसका एक बॉय फ्रेंड भी है जिस से चुदने के लिए मैंने ही उसे कहा था ताकि वो और लंड भी टेस्ट कर सके. पर आज भी निक्की अपनी छुट्टियां मेरे साथ ही बिताती है और मैं अपनी उस प्यारी सी कजिन को बड़े ही लाड प्यार से चोदता हूँ.