मेरी यह कहानी मेरी और मेरी प्यारी टीचर सुहानी की है, यह सेक्स कहानी आज से ३ साल पहले की है जब मैं २२ साल का था और मैं बी.बी.ए. की पढाई कर रहा था. आप लोगो जयादा बोर न करते हुए मैं अपनी सेक्स स्टोरी पर आता हूँ. मैंने बी.बी.ए. में एडमिशन लिया और जब कॉलेज जाना स्टार्ट किया तो हमारे क्लास में फर्स्ट डे मैथ्स की क्लास लेने के लिए एक लेडी टीचर आई. जैसे ही उन्होंने क्लास में एंट्री की मैं तो उनको देखता ही रह गया. उनका फिगर बहुत सेक्सी था, वो करीब होगा ३४- २८- ३६ का.

क्लास में आने के बाद सब से पहले उन्होंने अपना इंट्रोडक्शन दिया और बताया की उनका नाम सुहानी है, फिर उन्होंने हम सब का इंट्रोडक्शन लिया. वो जब चलती थी तो उनकी गांड क्या मस्त हिलती थी, मैं तो उनकी गांड का दीवाना हो गया था. उनको देखते ही मेरा मन कर रहा था क्लास में टेबल पर लिटा कर ही चोद डालू. और सिर्फ मैं एक अकेला ही नहीं था, हमारी क्लास के सारे लड़के उनको देख कर आहे भरते थे. उस दिन उनके लिए मैंने २ बार मुठ मारी. फिर सब नार्मल चलने लगा. क्लास में जब भी वो आती तो मैं उनको ऐसे देखता जैसे मैं उनको अपनी आँखों से चोदता हूँ, उन्होंने भी कई बार  नोटिस किया था.

फिर हमारे इंटरनल एग्जाम स्टार्ट हो गए और मुझे मैथ्स में कम मार्क्स मिले. फिर जब हमारा एक्सटर्नल एग्जाम स्टार्ट होने वाले थे, तो मैं पर्सनली उनसे उनके रूम में मिलने गया और मुझे जहा प्रॉब्लम आ रही थी, वो उनसे पूछने लगा. उन्होंने मुझे बहुत अच्छे से समझाया.

हमारा रीडिंग वेकेशन होने वाला था तो उसने मुझे कहा की अगर आपको मैथ्स कोई प्रॉब्लम हो तो मुझे कॉल कर सकते हो. फिर हम दोनों मोबाइल नंबर एक्सचेंज किया.

फिर एक दिन जब मैं घर पर बोर हो रहा था तो मैंने सोचा मैडम से मिलने चला जायु, फिर मैंने उनको कॉल किया और हम ने एक दुसरे को हेलो किया और फिर सुहानी मैडम ने पुछा किस काम के लिए कॉल किया है. तो मैंने उनको बताया की मुझे मैथ्स में प्रॉब्लम आ रही है तो वो सोल्व करनी है, तो उन्होंने मुझे अपने घर बुलाया और घर का एड्रेस दिया.

जब मैं उनके घर पंहुचा और जैसे ही मैंने डोर बेल बजायी तो उसने दरवाजा खोला और मैं चौक गया क्यूंकि उसने उस वक़्त टाइट टी-शर्ट और शॉर्ट्स पहने हुई थी, तो मेरा तो उनको देखते ही खड़ा हो गया था.

फिर उसने मुझे अंदर बुलाया और उसने मुझे कॉफ़ी के लिए पुछा, तो मैंने हां कर दी और जब वो किचन में जाने लगी तो मैं उनकी गांड की लचक देखते ही पागल हो गया और मेरा मन उन्हें चोदने का करने लगा. मुझे तो एस्सा लग रहा था कि आज मेरा लंड मेरी पेंट फाड़ कर बाहर ही आ जायेगा. पर किसी तरह मैं कण्ट्रोल कर के बैठा रहा. क्यूंकि वो टीचर थी और मैं उनका स्टूडेंट और मुझे उनकी फीलिंग्स के बारे भी नहीं पता था. अगर नाराज़ हो जाती तो फेल भी कर सकती थी.

थोड़ी देर बाद वो कॉफ़ी लेकर आई और मेरे पास आकर बैठ गयी, हम ने थोड़ी इधर उधर बात करनी स्टार्ट की और फिर उसने मुझे कहा की चलो बुक्स निकालो. अब हम पढाई स्टार्ट करते है तो मैंने बुक्स निकाली और पढाई स्टार्ट की. जब वो मुझे पढ़ा रही थी तो मैं उनके बूब्स का उभार देख रहा था और उनके जिस्म की खुशबू ले रहा था.

मेरा ध्यान पढाई में बिलकुल नहीं था और मेरा लंड पूरा टाइट हो चूका था, उसने मुझे बार बार नोटिस किया कि मैं उसके बूब्स देख रहा हूँ, तो उसने मुझे टोका और कहा की अब ऐसा नहीं होना चाहिए  और हम ने फिर से पढाई शुरू की तो थोड़ी देर बाद मेरा ध्यान फिर से उनके बूब्स पर  भटक गया, तो उसने यह भी नोटिस कर लिया कि मैंने उनके बूब्स देख रहा हूँ, और मेरा लंड भी टाइट हो चूका था.

तो उसने मुझे कहा की क्या देख रहे हो, क्या तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड नहीं है?

तो मैंने कहा नहीं…

तो उसने कहा कि क्यों कोई गर्लफ्रेंड नहीं है??

तो मैंने कहा की कोई मिली नहीं अभी  तक आप के जैसी…

वो बोली ऐसा मुझ में क्या है?

मैंने कहा आप तो अप्सरा हो… इतनी खूबसूरत लड़की मैंने कभी नहीं देखी और मुझे आप को किस करने का मन करता है. क्या मै आपको किस कर सकता हूँ?

वो बोली क्या बस एक ही करनी है???

उसने जैसे ही यह कहा की मैं उनके ऊपर टूट पड़ा और उनको जोर जोर से किस करने लगा, पहले तो वो नार्मल खड़ी रही, फिर थोड़ी देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी और वो भी मुझे जोर जोर से किस करने लगी.

अब हम दोनों एक दुसरे को किस करते हुए बहुत ही एक्साइट हो गए थे कि तभी उसने मुझे इशारा किया अपने बेडरूम की तरफ, अब तो खुला सिग्नल था और मैंने बिना देर किये उनको अपनी गोद में उठाया और रूम में ले गया और ले जाकर बेड पर पटक दिया और किस करने लगा. अब मेरा हाथ उनके बूब्स की और चला गया तो मुझे पहले तो मुझे समझ ही नहीं आ रहा था की कैसे बूब्स दबायु, मेरा पहली बार था न इसलिए.

फिर मैंने उनकी टी-शर्ट निकाल दी और उनके बूब्स को जोर जोर से ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा, तभी उसने भी अपना हाथ बढाया और मेरे लंड की तरफ ले गयी और पेंट के ऊपर से ही मेरे लंड को दबाने लगी. अब वो और मैं पूरी मस्ती में थे तो मैंने उनकी ब्रा निकाल दी और जोर जोर से बूब्स दबाने लगा और उनके पुरे बदन को चाटने लगा.अब उनके बदन सिर्फ उनके शॉर्ट्स थे.

मैं जैसे ही उनको छुता , उनके मुह से अजीब से आवाज़े निकलने लगती अह्ह्ह्हह…. आह्ह्ह…. सस…. आःह्ह… और अब वो कहने लगी की और जोर से दबाओ तो मैं और एक्साइट हो गया और जोर जोर से उनके बूब्स दबाने लगा और उनके पुरे बदन को बाईट करने लगा.

फिर मैंने उनकी शॉर्ट्स और पेंटी भी निकल दी और उसने मेरे भी सारे कपडे उतर दिए और हम दोनों पुरे नंगे हो गए थे, उसने मेरा लुंड मुह में लिया और जोर जोर से चाटने लगी और मैं उनके बूब्ब्स को दबाने लगा और उनकी चूत को रब करने लगा.

वो अब पुरे मूड में थी उसने कहा की अब नहीं रहा जाता तो मैंने उनको बेड पे लिटा दिया और मेरा लंड उनकी चूत पर रगड़ने लगा.

तभी वो बोली जान… और मत तडपायो…. डाल दो…. प्लीज…. अपना पूरा लंड. मैंने भी और देर न करते हुए एक जोर का झटका दिया तो पूरा लंड उनकी चूत में चला गया, उसने जोर से चीखना स्टार्ट किया, उनके पुरे घर में सुहानी मैडम की आवाज़े गूँज रही थ. फिर थोड़ी देर में वो शांत हो गयी तो मैंने भी अपने धक्के स्लो से थोडा फ़ास्ट कर दिए. अब वो भी मजे लेने लगी थी तो मैंने अपनी स्पीड में चोदना स्टार्ट कर दिया.

अब उनके मुह से आह्ह्ह्ह….. सस….. अह्ह्ह्हह्ह….. स्स्स्स….. की आवाज़े आने लगी, अब पूरा रूम सेक्स के माहौल का बन गया था, फिर मैंने उनसे ऊपर आने को कहा. और वो मेरे ऊपर आकर मेरा लंड अपनी चूत में डाल कर उछल उछल कर चुदवाने लगी.

करीब २० मिनट बाद हम दोनों साथ में झड गए और मैंने अपना सारा पानी उनकी चूत में छोड़ दिया, वो अब थक चुकी थी तो मेरे ऊपर ही लेट गयी. फिर थोड़ी देर हम बाते करने लगे और हम नार्मल हो गए थे, तभी उसने फिर से मेरा लंड सहलाना स्टार्ट किया और हमने फिर से सेक्स स्टार्ट किया. हम दोनों ही बहुत एन्जॉय कर रहे थे.

१५ मिनट की चुदाई में मैंने उनको अलग अलग पोजीशन में चोदा और जब में उनको डोगी स्टाइल में चोद रहा था तो मैं उनकी बड़ी गांड को देखा और मेरा  उनकी गांड को चोदने का मन करने लगा था. और यह तो मेरी कब से विश थी की उनकी गांड चोदु. तो मैंने उनको कहा की मुझे आपकी गांड भी मारनी है तो उसने कहा की नहीं उस में बहुत दर्द होगा. बस येही बहुत है. पर मेरे थोडा और बोलने पर वो मान गयी.

अब वो क्रीम ले कर आई और मेरे लंड पे लगाया और उनकी गांड में लगाया और पोजीशन में आ गयी, फिर मैंने अपने लंड का जोर से झटका मारा तो आधा लंड उनकी गांड में चला गया तो वो जोर से चीखने लगी.

थोड़ी देर बाद जब वो नार्मल हुई तो हम ने स्लो स्टार्ट किया, फिर थोड़ी देर बाद तो वो अपनी गांड उछाल उछाल कर चुदवा रही थी और हम दोनों ४५ मिनट बाद झड गए और मैंने सारा पानी उनकी गांड में ही  छोड़ दिया और थोड़ी देर लेट कर हमने आराम किया और थोड़ी देर बाद हम उठे. हम एक दुसरे से नार्मल हो कर बाते करने लगे और अब हमे जब भी मौका मिलता हम सेक्स करते थे.

आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरुर बताइयेगा…..